Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا اقرأ على الموقع الرسمي

आज है महालक्ष्मी व्रत, मिट्टी का हाथी बना होती है पूजा

Samachar Jagat

इंटरनेट डेस्क। आज है महालक्ष्मी व्रत। यह व्रत श्राद्ध में रखा जाता है। आश्विन कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि को रखा जाता है महालक्ष्मी व्रत। इस साल यह व्रत आज है। इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा के लिए मिट्टी का हाथी मनाया जाता है। इसके बाद सभी स्त्रियां मिलकर हाथी की प्रतिमा की पूजा करती हैं। महालक्ष्मी की प्रतिमा रखकर दूब बेल, पत्री व जल को लेकर मां लक्ष्मी की कथा सुनी जाती है। व्रत की कथा किसी योग्य ब्राहमण के द्वारा ही सुनी जाती है। इस व्रत का संबंध भी महाभारत काल से हैं। मान्यता है कि महार्षि व्यास ने राजरानी गंधारी को यह व्रत रखने के लिए कहा था। तभी से महालक्ष्मी पर व्रत रखने की परंपरा चली आ रही है।

फ्लाइट में एयर होस्टेस से बुरा बर्ताव करना पड़ा सकता है भारी, ये हैं उनके अधिकार

ऐसा माना जाता है कि जो महिलाएं ने व्रत को रखती हैं। उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और परिवार में सुख-शांति, धन व पुत्र की प्राप्ति होती है। शास्त्रों में इस बात का उल्लेख है कि महालक्ष्मी व्रत के दौरान द्वापर युग में महारानी कुंती ने अपने पुत्र भीम के माध्यम से राजा मंदिर के यहां से ऐरावत हाथी मंगवाकर लक्ष्मी का पूजन किया था। तब से लक्ष्मीव्रत के दौरान हाथी पूजन की परंपरा विद्यमान है।

जयपुर नगर निगम: 150 में से 25 वार्ड एससी-एसटी के लिए आरक्षित और 50 वार्डों में महिलाओं को मिलेगा प्रतिनिधित्व

महालक्ष्मी व्रत पूजा सामग्री - दो सूप, 16 मिट्टी के दिये, प्रसाद के लिये सफेद बर्फी, फूल माला, तारों को अर्घ्य देने के लिये यथेष्ट पात्र, 16 गांठ वाला लाल धागा और 16 चीजें, हर चीज सोलह की गिनती में होनी चाहिएय जैसे 16 लौंग, 16 इलायची या 16 सुहाग के सामान आदि। इस व्रत में अन्न ग्रहण नहीं किया जाता और 16वें दिन पूजा कर इस व्रत का उद्यापन किया जाता है ।

September 21st 2019, 5:31 am
اقرأ على الموقع الرسمي

0 comments
Write a comment
Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا