Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا اقرأ على الموقع الرسمي

सड़क पर उतरे हजारों किसान, नोएडा से दिल्ली की कर रहे पदयात्रा, मोदी सरकार को देंगे अपना मांग पत्र

Samachar Jagat

इंटरनेट डेस्क। किसानों-मजदूरों की समस्याओं को लेकर भारतीय किसान संगठन के नेतृत्व में हजारों किसान आज नोएडा से दिल्ली की कूच कर दिया है। हजारों की संख्या ये किसान अपनी विभिन्न मांगों को लेकर मोदी सरकार के सामने रखने के लिए सहारनपुर से पैदल यात्रा करते हुए जा रहे हैं। दिल्ली-यूपी बॉर्डर के गाजीपुर के पास मौजूद पूर्वी दिल्ली के ज्वाइंट सीपी ने कहा कि हम किसान मार्च पर पूरी नजर रखे हुए हैं। उत्तर प्रदेश की पुलिस के साथ हम लगातार समन्वय बना हुआ है। किसानों की गतिविधियों पर पूरी नजर है। नोएडा से दिल्ली की ओर कूच रहे किसान अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करने की तैयारी में है।

चंद्रयान-2 के लैंडर से संपर्क की उम्मीदें खत्म, आज चांद पर खत्म हो जाएगी विक्रम की जिंदगी

दिल्ली पुलिस पूरी कोशिश करेगी दिल्ली की तरफ किसान ना बढ़ सके। जबकि किसान नोएडा के ट्रांसपोर्ट नगर से शनिवार की सुबह दिल्ली कूच के लिए रवाना हुए हैं। ऐसे में दिल्ली पुलिस की तैयारी कहीं ना कहीं इशारा करती है कि किसानों के बीच माहौल तनावपूर्ण हो सकता है। भारतीय किसान संगठन के उपाध्यक्ष राधे ठाकुर ने कहा कि सहारनपुर से दिल्ली के लिए निकली किसान-मजदूर यात्रा में हजारों किसान शामिल हैं। सहारनपुर से दिल्ली के किसान घाट तक पैदल यात्रा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में किसानों की हालत दयनीय है और किसान आर्थिक संकट से जूझ रहा है। लेकिन सरकार हाथ पर हाथ रखे सो रही है।

पुलवामा हमले जैसी घटना महाराष्ट्र में बदल सकती है सरकार

उन्होंने कहा कि समय से किसानों को गन्ना मूल्य का भुगतान नहीं हो रहा। योगी सरकार बिजली की दर बढ़ाकर किसान की कमर तोड़ रही है और कर्ज के चलते किसान आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं। इसी के चलते देश के किसान को दिल्ली पैदल आने के लिए मजबूर होना पड़ा है। जब तक किसानों की मागों के बारे में सरकार कोई ठोस आश्वासन नहीं देती तब तक किसान दिल्ली छोड़ने वाले नहीं हैं।

किसान संगठनों की प्रमुख मांगें - 1. भारत के सभी किसानों के कर्जे पूरी तरह माफ हों, 2. किसानों को सिंचाई के लिए बिजली मुफ्त मिले, 3. किसान व मजदूरों की शिक्षा एवं स्वास्थ्य मुफ्त, 4. किसान-मजदूरों को 60 वर्ष की आयु के बाद 5,000 रुपये महीना पेंशन मिले, 5. फसलों के दाम किसान प्रतिनिधियों की मौजूदगी में तय किए जाएं, 6. खेती कर रहे किसानों की दुर्घटना में मृत्यु होने पर शहीद का दर्जा दिया जाए, 7. किसान के साथ-साथ परिवार को दुर्घटना बीमा योजना का लाभ मिले, 8. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाईकोर्ट और एम्स की स्थापना हो, 9. आवारा गोवंश पर प्रति गोवंश गोपालक को 300 रुपये प्रतिदिन मिलें, 10. किसानों का गन्ना मूल्य भुगतान ब्याज समेत जल्द किया जाए, 11. समस्त दूषित नदियों को प्रदूषण मुक्त कराया जाए, 12. भारत में स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू हो।

September 21st 2019, 2:31 am
اقرأ على الموقع الرسمي

0 comments
Write a comment
Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا