Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا اقرأ على الموقع الرسمي

Rajasthan : जयपुर में आईटी विभाग की अब तक की सबसे बड़ी रेड, तीन बड़े ज्वैलर्स के पास निकली इतनी संपत

Samachar Jagat

इंटरनेट डेस्क। जयपुर शहर में एक बड़ी आयकर विभाग की रेड का मामला गुरुवार को सामने आया। 1400 करोड़ का ये छापा जयपुर में इनकम टैक्स की अब तक की सबसे बड़ी रेड है। आयकर छापों की कार्रवाई में आभूषण कारोबारियों के तीन समूहों (चौरड़िया ग्रुप, गोकुल ग्रुप और सिल्वर ग्रुप) के पास करीब 1400 करोड़ रुपए की अघोषित आय उजागर हुई है।

आयकर विभाग की इस कार्रवाई में चौंकाने वाली बात ये रही कि ज्वेलरी व्यवसायी के घर पर आयकर विभाग को एक सुरंग नुमा तहखाना भी मिला जिसमें 15 बोरों में आर्ट ज्वेलरी, एंटीक सामान और लेनदेन व संपत्तियों के दस्तावेज रखे हुए थे। आयकर विभाग के अनुसार, सिल्वर आर्ट ग्रुप का 525 करोड़ रु. का अघोषित लेनदेन सामने आया, साथ ही जौहरी समूह सिल्वर आर्ट ग्रुप कीमती पत्थरों, आभूषणों, प्राचीन वस्तुओं, हस्तशिल्प, कालीन, वस्त्र का व्यवसाय करता है। तलाशी अभियान के दौरान, एक गुप्त सुरंग का पता चला। इसमें पहुंचने पर सोने और चांदी के आभूषण, एंटीक सामान, आर्ट ज्वेलरी के अलावा बेनामी संपत्ति से संबंधित दस्तावेज मिले हैं। इस गुप्त कक्ष से 15 बोरे मिले हैं।

साथ ही जौहरी ग्रुप ने शुरुआती पूछताछ में किसी भी स्टॉक रजिस्टर के होने से मना कर दिया, पर टीम जैसे ही गुप्त सुरंग तक पहुंची तो सभी सामानों पर अल्फा-न्यूमेरिक सीक्रेट कोड में वास्तविक बिक्री मूल्य लिखा था। वहीं टीम कोड को क्रैक करने पर काम कर रही है। सुरंग के अन्दर से दो हार्ड-डिस्क और पेन-ड्राइव भी मिलीं हैं। समूह में अब तक 525 करोड़ के अघोषित लेनदेन का पता चला है।

साथ शहर के तीसरा समूह जयपुर का एक प्रसिद्ध बिल्डर और डेवलपर है जो कि फार्म हाउस, टाउनशिप और आवासीय एन्क्लेव डेवपलमेंट में लगा है। वहीं सर्च ऑपरेशन से पता चला है कि, इस समूह ने एयरपोर्ट प्लाजा में एक रियल-एस्टेट परियोजना को संभाला था।

January 22nd 2021, 2:07 am
اقرأ على الموقع الرسمي

0 comments
Write a comment
Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا