Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا اقرأ على الموقع الرسمي

कौन है ग्रेटा जिसके कहने पर दुनियाभर के लाखों छात्र कर रहे विरोध प्रदर्शन

Samachar Jagat

इंटरनेट डेस्क। संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन के लिए न्यूयॉर्क में जहां दुनियाभर के नेता इकट्ठा होंगे। वहीं, दुनियाभर के लाखों छात्र एक साथ इकट्ठा होकर जलवायु परिवर्तन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इन छात्रों ने फैसला किया है कि वह एक दिन स्कूल ना जाकर पर्यावरण के लिए आवाज उठाएंगे। इस पूरे आंदोलन का नेतृत्व महज 16 साल की लड़की कर रही हैं। लड़की का नाम है ग्रेटा टुनबर्ग। छात्रों के इस आंदोलन का नाम है फ्राइडेज फॉर फ्यूचर है। ग्रेटा काफी सहासी है उसने देश के कई नेताओं को खरी खोटी सुनाई है।

जानिए क्या है हाउडी मोदी और क्या है इसका मकसद, जिस पर है पूरी दुनिया की नजर

2003 में स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में जन्मी ग्रेटा का नाम मैलेना अर्नमन है। वह स्वीडन में एक ओपेरा सिंगर हैं। ग्रेटा के पिता एक एक्टर हैं और उनका नाम स्वांते टनबर्ग है। ग्रेटा ने द्वारा जलवायु परिवर्तन के खिलाफ शुरू की गई इस लड़ाई की शुरुआत उसने सबसे पहले अपने घर से की। सबसे पहले ग्रेटा ने अपने माता पिता से कहा कि वह अपना लाइफस्टाइल बदलें। इस अभियान को शुरू करने से पहले दो साल तक ग्रेटा ने अपने घर के माहौल को बदलने का ही काम किया। ग्रेटा के माता-पिता ने इस बदलाव को अपनाते हुए मांस का सेवन करना बंद कर दिया साथ ही जानवरों के अंगों से बनीं चीजों का इस्तेमाल तक करना बंद कर दिया।

ई-सिगरेट पर प्रतिबंध के लिए अध्यादेश जारी

इतना ही नहीं ग्रेटा के माता पिता ने हवाई जहाज स यात्रा तक करना बंद कर दिया। क्योंकि इसकी वजह से कार्बन का उत्सर्जन ज्यादा होता है। वर्ष 2018 में जब ग्रेटा नौवीं क्लास में थी। तब स्वीडन में बहुत अधीक गर्मी पड़ रही थी। लू से लोगों का जीना मुहाल हो गया था। दूसरी तरफ जंगल में आग लगने के कारण प्रदूषण फैला हुआ था। उस दौरान ही 9 सितंबर को स्वीडन में आम चुनाव था। तब उन्होंने फैसला किया कि चुनाव समाप्त होने तक वह स्कूल नहीं जाएंगे। 20 अगस्त से उन्होंने जलवायु के खिलाफ जंग शुरू की। सोशल मीडिया पर आंदोलन की तस्वीरें वायरल हुई दुनिभर से उन्हें समर्थन मिलना शुरू हो गया।

दुनियाभर के छात्र ग्रेटा के इस प्रदर्शन से काफ प्रभावित हुए। इसे ग्रेटा टुनबर्ग इफेक्ट कहा गया। इसके बाद 2019 में 224 शिक्षाविदों ने प्रदर्शन के समर्थन में एक ओपन लेटर पर हस्ताक्षर किए। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरिस ने भी इन बच्चों के स्कूली आंदोलन की सराहना की। इसके बाद देखते ही देखते ग्रेटा लोकप्रिय हो गई। दुनिया के कई महत्वपूर्ण मंचों पर जलवायु परिवर्तन के विषय पर बोलने के लिए उन्हें आमंत्रित किया जाने लगा।

September 21st 2019, 12:41 am
اقرأ على الموقع الرسمي

0 comments
Write a comment
Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا