Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا اقرأ على الموقع الرسمي

चंद्रयान-2 के लैंडर से संपर्क की उम्मीदें खत्म, आज चांद पर खत्म हो जाएगी विक्रम की जिंदगी

Samachar Jagat

इंटरनेट डेस्क। भारत के चंद्रमा मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम से दोबारा संपर्क स्थापित होने की उम्मीदें टूट गई हैं। चंद्रमा पर दिन ढलने के साथ ही शनिवार को रात का अंधेरा छा जाएगा और इसके साथ ही लैंडर का जीवन खत्म हो जाएगा। चंद्रमा की सतह पर लैंडर की जिंदगी सिर्फ एक चंद्र दिवस (पृथ्वी के 14 दिन के बराबर) थी।

5 अक्टूबर को लखनऊ से नई दिल्ली के लिए चलेगी आईआरसीटीसी तेजस एक्सप्रेस, बुकिंग शुरू, किराया हुआ तय

इसरो की तरफ से इस बारे में कोई बयान नहीं आया है। लैंडर विक्रम और उसके गर्भ में छिपे रोवर प्रज्ञान से सात सितंबर को चंद्रमा की सतह पर लैंडिंग से मात्र 2.1 किलोमीटर पहले ही संपर्क टूट गया था। तब से भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) लगातार उससे संपर्क स्थापित करने की कोशिशों में जुटा था। लैंडर को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग करनी थी, लेकिन उसने हार्ड लैंडिंग की थी।

एलआईसी का पैसा घाटे वाली कंपनियों में लगा रही है मोदी सरकार: प्रियंका

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने उसका चंद्रमा की सतह पर पता भी लगा लिया था। ऑर्बिटर से मिली तस्वीरों से पता चला था कि हार्ड लैंडिंग के बाद विक्रम गलत दिशा में चंद्रमा की सतह पर पड़ा था, जिससे उससे सिग्नल नहीं मिल रहे थे। इसरो ने कहा था कि चंद्रमा पर रात होने के बाद लैंडर में लगी बैटरी चार्ज नहीं हो सकती। इसके अलावा लैंडर चंद्रमा पर रात के समय होने वाली अत्यधिक ठंड में काम करने में भी सक्षम नहीं था।

September 21st 2019, 1:43 am
اقرأ على الموقع الرسمي

0 comments
Write a comment
Get it on Google Play تحميل تطبيق نبأ للآندرويد مجانا